24th July 2021

JAGRITI MEDIA

NEWS, MEDIA, UTTARAKHAND

देवस्थानम बोर्ड उत्तराखंड के भविष्य के विकास के लिए पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र, वही चारधाम के पंडित प्रोहितो का एलान मुख्यमंत्री की यात्रा का करेंगे विरोध

1 min read

मुख्यमंत्री पुष्कर धामी कोअपनी पहली केदारनाथ यात्रा के दौरान तीर्थ पुरोहितों के विरोध का सामना करना पढ सकता है । बाकायदा केदार सभा के तीर्थ पुरोहितों ने स्थानीय प्रशासन को इस संदर्भ में सूचना प्रेषित कर दी है। चेतावनी दी है कि यदि देवस्थानम बोर्ड पर पुनर्विचार में किया गया तो मुख्यमंत्री के केदारनाथ आगमन पर उनका विरोध किया जाएगा। वही पांच दिवसीय दौरे में चमोली पहुचे पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने एक जन सभा मे देवस्थानम बोर्ड को उत्तराखंड की तरक्की का जरिया बताया है।

उल्लेखनीय है कि सोमवार को मुख्यमंत्री रुद्रप्रयाग जनपद के एकदिवसीय दौरे पर हैं। इस दौरान उनका केदारनाथ धाम जाने का कार्यक्रम भी प्रस्तावित है। इसकी भनक लगते ही केदार सभा के तीर्थ पुरोहितों ने मुख्यमंत्री की पहली यात्रा के विरोध की तैयारियां भी शुरू कर ली हैं। तीर्थ पुरोहितों ने स्थानीय प्रशासन को इस संदर्भ में ज्ञापन भी प्रेषित किया है। क
केदार, सभा के अध्यक्ष विनोद शुक्लाआचार्य संतोष त्रिवेदी एवं संजय तिवारी ने संयुक्त रूप से बयान जारी कर कहा कि मुख्यमंत्री की केदारनाथ की यात्रा मोदी के ङीम प्रोजेक्ट एवं केदारनाथ में हो रहे पुनर्निर्माण कार्यों को देखने आना है। तीर्थ पुरोहितों ने कहा कि यदि मुख्यमंत्री तीर्थों की यात्रा करते तो उन्हें चार धामों की वामावर्त यात्रा करनी चाहिए थी ।इसमें सर्वप्रथम यमुनोत्री उसके बाद गंगोत्री ,केदारनाथ एवं बदरीनाथ की यात्रा का प्रावधान है कहा कि मुख्यमंत्री के केदारनाथ आगमन पर उनका पुरजोर विरोध किया जाएगा। इसके अलावा सभा के अध्यक्ष विनोद शुक्ला ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री का भी केदारघाटी आगमन का कार्यक्रम है, उनका भी यहां आने पर विरोध एवं सार्वजनिक बहिष्कार किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *